बुधवार, 10 मार्च 2010

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की पत्रकारिता का मुलाहिज़ा फरमाइए!


मीडिया में गला काट प्रतिस्पर्धा का इससे प्रत्यक्ष उदाहरण और क्या मिलेगा! जैसा कि आप देख सकते हैं टाइम्स ऑफ़ इंडिया ने माइक से 'जैन टी वी' का लोगो गायब कर दिया। टाइम्स नाउ और जैन टी वी का भला क्या मुकाबला है लेकिन फिर भी, दूसरे चैनल का नाम भी क्यूँ दिखाएं!

इसके लिए भले ही पी टी आई की फोटो को एडिट करना पड़े!

( ये रिपोर्ट देखिये मीडियाखबर.कॉम पर )

5 टिप्‍पणियां:

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

निन्दनीय है.

Mohammed Umar Kairanvi ने कहा…

निन्दनीय है

संजय बेंगाणी ने कहा…

निंदनीय?!

रवीन्द्र रंजन ने कहा…

इसमें गलत भी क्या है?

मिहिरभोज ने कहा…

रवींद्र रंजन टाईम्स मैं नौकरी करते हैं क्या......संभवतया आज के दिन के टिपीकल पत्रकार आप ही है....इतनी बेशर्मी से कहा कि इसमें गलत ही क्या है....